A thought for tomorrow : Let’s be nice!

Disclaimer: The views presented below are the author’s own and are not in any manner representative of the views of Vox Populi as a body or IIT Kanpur in general.

—————————————————————————————————————————————–

पाठ के अंत में हिंदी अनुवाद जोड़ा गया है।


One night during my first month at IIT Kanpur, I remember calling my dad and saying I want to drop out. I had seen my friends being asked to perform activities ranging from shouting random things in front of a thousand strong crowd to performing some poses I still sometimes find too vulgar to describe. I escaped all that. I lied, made excuses and ensured I was away while these activities were going on. But even the possibility that I might be coerced to perform these acts was traumatising. For the first time in my life, I broke into tears while talking to my family on phone. I still remember how helpless I felt.

My dad agreed. Maybe he did so to support me, to make me feel that I have options if at any time it gets too difficult for me to bear it. I am thankful for that.

Eventually, things settled. My immediate fears were replaced by the desire to prevent future students from going through the same routine. As I was appointed as a Student Guide with the Counselling Service, it also meant that I had a responsibility to do so.

I confess that feeling was short lived. As I entered my second year and saw the freshers being roughed up by my batchmates, I felt entitled with a sense of power. It seemed I could seek revenge for everything that I had had to face.

But before these feelings materialised, a couple of incidents shook me.

As a student’s father was about to leave the campus,  he broke into tears and asked me to take care of his ward who had never left home before. Later, soon after the orientation, I noticed that the freshers living next to my room had been skipping meals for at least the past two days.

Why were they skipping meals? I overheard one of them speak to his father and realised they were doing so as they feared being stopped by seniors on their way to the mess. He exclaimed how helpless he was. Suddenly, it brought back the memories of my initial days at the campus: I could not forget what I had undergone the previous year.

These were not isolated incidents. Over time, I found it more difficult to accept the justifications I had briefly embraced.

“If I had known before that there are people here who derive pleasure from seeing people thrust their pelvis into and out of a bush, I certainly would have taken admission elsewhere,” a fresher had said to me during his first few days in the campus, disappointment very clear from his voice. The next year, it was really surprising for me to see the assertive tone he took while he instructed his juniors to do the same stuff he had despised so vehemently until only a few months ago.

This is not about one student or one batch. Having witnessed three different orientation programmes in varying capacities, and after discussing the matter with a lot of people, we notice that this transition is a phenomenon of noteworthy scale: a lot of students change from being repulsed by most of the activities that constitute the quintessential “interaction” with seniors to accepting these practices as okay, further to becoming a part of the machinery that propagates these practices year in, year out. It is codified as “culture” and propagated as a norm.

You may or may not agree that how we treat freshers is inappropriate. You may have solid reasons to accept what happens. But I would urge you to read and introspect since, in our opinion, the logic behind these justifications falls apart when analysed rationally.

Let’s break this down. There are two camps: one, avid supporters and second, moderates who offer subtle explanations.

Consider some common arguments by avid supporters.

  1. Seniors ki izzat karni chahiye’ (Seniors should be respected)

The objective of the “interaction sessions” seems to be to establish a friendly rapport with the juniors. But this diktat of “respect” seems to be in contradiction to that cause. Would an initial interaction based on mutual respect (emphasis added) not be more likely to eventually transform into a friendship than one-sided respect induced by fear?

Even if we assume that respect for seniors is a desirable virtue, forcing them to indulge in these activities — when clearly many of them do not want to —  is out of fear, not respect. And that itself should be convincing enough for us to stop all of it.

  1. ‘Personality development’ for the rest of their lives:

The proponents of this theory state that life after college is going to be harsh and thus students need to be  trained to be able to adapt to it.

Well, if a child’s parents start slapping him every morning ritualistically, he would probably become resilient to physical suffering, but that hardly justifies the act in any way, does it?

Next, let’s look at the discrepancies in the arguments offered by neutrals. While

it is relatively easy to dismiss the arguments offered by avid supporters, their points are more subtle.

  1. “But it’s harmless as long as people know their limits, no?”

Here is how it goes: If everyone emerges unscathed and a few of them remember all of it fondly after a year, what is the problem? This one had us stumped too, for a long time. However, after witnessing a few students seeking professional help to recuperate and one even dropping out temporarily, we had no doubt that boundaries are crossed. There is a clear disparity between the limits we talk about, as seen by the freshers and by the seniors. This rite of passage has been more harrowing than harmless for way too many students to be ignored.         

  1. “The freshers always have an option to refuse to do whatever is being asked of them” This statement is not entirely wrong. But it is based on a faulty assumption. It ignores the asymmetry due to power hierarchies. It assumes that students who do not want to shout out insults or perform overtly sexualized activities would find it easy to come out from a group of twenty, when faced with dominating seniors, to express that they are not comfortable. Let’s not fool ourselves: That’s unlikely to happen. It does not happen. Case in point: The students who suffered due to this, as mentioned in the previous point.

Conclusion

There are no logical arguments to support the way we interact with freshers here. So one begins to wonder if this cyclic process reflects our affinity to sadism.

Last year, we witnessed one of the most unfortunate incidents in the history of the campus when 22 students were terminated on charges of ragging. We had hoped that this would trigger a wave of introspection about existing practices in the campus within the student community. However, after repeatedly hearing remarks such as “Is saal bacche kuch zyaada hi sensitive hain” (freshers batch is too sensitive this time) and others incriminating the complainants themselves, it is unlikely that any change happened.

When your hard-held opinions and beliefs about the notion of what someone ought to do prove detrimental to the well-being of others, it is worth pondering: is that really the way it should be?  

For too long we have let our culture dictate our actions when it should so clearly be the other way round.

We fervently hope that readers will not blindly follow what they saw in their interactions with freshers the next year, and behave as any conscious human being (who knows why he does what he does) would.


 

मुझे याद है कैंपस में मेरे शुरुआती दिनों की वो रात जब मैंने अपने पापा से आईआईटी छोड़ने की बात की थी। उन कुछ दिनों में भी मैंने कई सीनियर्स को अपने दोस्तों से तरह तरह की गतिविधियाँ करने के लिए कहते हुए देख लिया था- चाहे वो करीब हज़ार लोगों के सामने कुछ बातें चिल्ला कर बोलना हो या कुछ ऐसी भंगिमाएँ बनाना जिनका उल्लेख करना मैं घृणास्पद समझता हूँ। मैं इन स्थितियों से बचता रहा। मैंने झूठ बोले, बहाने बनाए और प्रयास किया कि इन गतिविधियों से जितना दूर रह सकूँ रहूँ। पर इन गतिविधियों में भाग लेने के लिए दबाव डाले जाने की संभावना ही मुझे भयभीत कर देने के लिए काफी थी। अपने जीवन में पहली बार मैं फोन पर अपने परिवार से बात करते करते बिलख उठा। मुझे आज भी याद है कि मैं तब कितना ला-चार महसूस  कर रहा था।

मेरे पापा फ़ौरन मान गए थे। आज जब सोचता हूँ तो लगता है कि शायद उन्होंने मुझे सहारा देने के लिए यह किया होगा- यह महसूस कराने के लिए कि यदि कभी मेरे लिए यहाँ कुछ सहन करना बहुत मुश्किल हो जाता है तो मेरे पास विकल्प हैं। मैं इसके लिए उनका शुक्रगुज़ार हूँ।

धीरे धीरे मेरी स्थिति सुधरी। मेरे प्रारंभिक भय की जगह एक जज़्बे ने ले ली कि मुझे भविष्य में आने वाले बच्चों को इसी प्रक्रिया से गुज़ारे जाने से रोकना है। क्यूंकि काउंसलिंग सर्विस ने मुझे स्टूडेंट गाइड नियुक्त किया था, एक ज़िम्मेदारी का एहसास भी मुझे था ।

पर मैं स्वीकार करता हूँ कि ये भावनाएँ कुछ ही दिन टिकीं- जब मैं अपने सेकंड ईयर में आया और मैंने अपने बैच के छात्रों का फ्रेशर्स के साथ बर्ताव देखा, तब मुझे एक सत्ता का मालिक होने का एहसास हुआ। ऐसा लगा जैसे पिछले साल मुझे जिसका सामना करना पड़ा था, अब उसका बदला ले सकता था।

पर इससे पहले कि ये भावनाएँ मुझमे पनप पातीं, कुछ ऐसी घटनाएं हुईं जिन्होंने मुझ पर बहुत गहरा प्रभाव डाला।

मुझे एक छात्र के पिता मिले, वो जाते जाते रूआँसे से हो गए | उन्होंने मुझसे कहा कि मैं उनके बेटे का ख्याल रखूँ और इस बात पर चिंता जताई कि वह कभी घर से दूर नहीं रहा है। ओरिएंटेशन के कुछ दिन बाद मैंने देखा कि मेरे कमरे के बगल में रहने वाले फ्रेशर्स दो दिन से खाना खाने नहीं जा रहे थे।

वे भोजन क्यों छोड़ रहे थे? जब मैंने उनमें से एक को उसके पिता से बात करते सुना तब मुझे समझ आया कि वे ऐसा इसलिए कर रहे थे क्यूँकि उन्हें डर था कि मेस जाते वक़्त कहीं सीनियर्स उन्हें पकड़ न लें। अचानक वो कहने लगा कि वह कितना लाचार महसूस कर रहा था। उसी पल मेरे दिमाग में कैंपस के प्रारंभिक दिनों की यादें घूमने लगीं: अब मैं भूल नहीं पा रहा था कि मुझ पर पिछले वर्ष क्या गुज़री थी।

मेरे साथ केवल यही घटनाएँ नहीं घटित हुई थीं। जैसे जैसे समय बीतता गया, मेरे लिए उन तर्कों को पचाना और मुश्किल होता गया जिन्हें मैं कुछ समय के लिए अपना चुका था।

“अगर मुझे पता होता की यहाँ ऐसे लोग हैं जिन्हे दूसरों को ऐसी गतिविधियाँ करते देखने में मज़ा आता है, तो मैंने कहीं और दाख़िला लिया होता”, एक Y16 छात्र ने कैंपस में अपने शुरूआती दिनों में मुझसे ये कहा। निराशा उसकी आवाज़ से साफ़ झलक रही थी।लेकिन अगले ही साल जब मैंने उसे बेहद मुखर स्वर में अपने जूनियर्स को वे चीज़ें करने का आदेश देते देखा, जिन्हे वह कुछ महीनों पहले तक बेहद तुच्छ समझता था, तब मैं आश्चर्यचकित था।

यह एक छात्र या एक बैच की कहानी नहीं है। तीन ओरिएंटेशन कार्यक्रम अलग अलग नज़रियों से देखने, और इन मुद्दों पर अनेक लोगो से चर्चा करने के बाद, हम इस निष्कर्ष पर पहुंचे हैं कि जिस परिवर्तन की हम यहाँ बात कर रहे हैं, वह एक ग़ौरतलब स्तर पर होने वाली प्रक्रिया है: बहुत बड़ी मात्रा में छात्र सीनियर-जूनियर के बीच इस ‘इंटरेक्शन’ को शुरू में घृणा की दृष्टि से देखते हैं, फिर इसे स्वीकार कर लेते हैं और अंततः इसे आगे बढ़ाने के साधन बन जाते हैं। इसे कल्चर का नाम दे दिया जाता है और मानक की तरह फैलाया जाता है।

आप इस बात पर हमसे सहमत या असहमत हो सकते हैं कि हम फ्रेशर्स की प्रताड़ना करते हैं। हो सकता है आपके पास वर्तमान स्थिति को स्वीकार करने के पीछे कुछ ठोस कारण हों। पर हम आपसे निवेदन करेंगे कि आप आगे पढ़ें और सोचें, क्यूंकि हमारे अनुसार जब इन तर्कों को पारखी नज़रों से देखा जाता है तब ये तर्क बिखर जाते हैं।

चलिए इन तर्कों को दो भागों में बाँटते हैं। ऐसे में दो खेमे उभर कर आते हैं – एक दृढ समर्थक और दूसरे मध्यमार्गी जो अधिक जटिल स्पष्टीकरण देते हैं।   

दृढ समर्थकों द्वारा दिए गए कुछ तर्क निम्नवत  हैं:

“सीनियर्स की इज़्ज़त करनी चाहिए ”’: अगर इस ‘इंटरेक्शन’ का मक़सद नए बच्चों के साथ एक दोस्ताना सम्बन्ध बनाना है, जैसा कि कई बार कहा जाता है, तो यह तर्क तो इस मक़सद के प्रतिकूल है। क्या आपसी सद्भाव और आदर से शुरू हुए सम्बन्ध की आगे चलकर उस सम्बन्ध के मुक़ाबले दोस्ती में बदलने की अधिक सम्भावना नहीं है, जो एकतरफा डर से शुरू हुआ हो?

अगर हम यह मान भी लें कि सीनियर्स के प्रति जूनियर्स का आदर दिखाना ज़रूरी है, तो क्या यही आदर वह कारण नहीं जो जूनियर्स को वो कृत्य करने पर मजबूर करता है जिन्हें वे नहीं करना चाहते? अगर ऐसा नहीं है तो फिर वो कृत्य केवल भय की भावना से किये अथवा करवाए जाते हैं, और तब इन्हें रोकना और भी आवश्यक है।

“आगे के जीवन के लिए व्यक्तित्व का विकास “- इस तर्क के समर्थक यह कहते हैं कि कॉलेज के बाद का जीवन और बाहर मिलने वाले लोग बेहद कठोर होने वाले हैं, और छात्रों को इसके मुताबिक़ तैयार करना चाहिए।

परन्तु अगर किसी बच्चे के माता पिता रोज़ाना नियमित रूप से अपने बच्चे को मारें तो नतीजन वह बच्चा शारीरिक पीड़ा सहने के लिए तैयार हो जाएगा। लेकिन क्या यह नतीजा इस विधि को सही साबित करता है?

आईये अब मध्यमार्गी विचारधारा वाले लोगों के तर्कों में खामियों पर चर्चा करें। इन गतिविधियों के उत्साही समर्थकों के तर्क खारिज करना फिर भी सरल है। मध्यमार्गी राय रखने वाले छात्रों के तर्क अधिक जटिल हैं।

“परन्तु जब तक छात्र अपनी सीमा जानते हैं, ये गतिविधियां तो हानिरहित हैं ना ?” यदि किसी को भी क्षति नहीं पहुँचती और कुछ समय बाद कई छात्र इस बीते समय को सानुराग याद करते हैं तो आखिर परेशानी क्या है?-इस तर्क के कारण हम भी काफी समय तक उलझे हुए थे। परन्तु कुछ छात्रों को इस प्रक्रिया से उबरने हेतु पेशेवरों की सहायता लेते और यहाँ तक कि एक छात्र को ड्रॉप करते हुए देखने के बाद यह बात बहुत स्पष्ट हो जाती है कि सीनियर्स एवं जूनियर्स की “सीमा” की परिभाषा में गौरतलब फासला है।

यह वार्षिक “अनुष्ठान” बहुत से छात्रों के लिए हानिरहित कम और पीड़ाजनक अधिक हो जाता है।

“ फ्रेशर्स को हमेशा ना कहने का विकल्प होता है ”  यह कथन पूर्णतया गलत नहीं है परन्तु इस तर्क में परेशानी यह है की यह एक गलत धारणा पर आधारित है।  यह तर्क सीनियर्स की सत्ता के जूनियर्स पर असर की बारीकियों को नज़रअंदाज़ करता है। इस तर्क में विश्वास कर हम यह उम्मीद कर रहे हैं कि गाली देने और अभद्र हरकतों में शामिल होने में अनिच्छुक रहने वाले किसी छात्र के लिए अपने ऊपर हावी सीनियर्स और दसियों मित्रों के सामने निकल कर आना और यह कहना आसान होगा कि वह असहज महसूस कर रहा है। हम आखिर किसे मूर्ख बना रहे हैं? यह होना बहुत असम्भाव्य है, और ऊपर विवरित पीड़ित बच्चों के उदाहरण यह स्पष्ट करते हैं कि यह नहीं हो पाता है।

निष्कर्ष

पिछले साल २२ छात्रों के निलंबन के बाद (हालांकि ये बेहद दुर्भाग्यपूर्ण था) हमारे जूनियर्स के प्रति हमारे व्यवहार का औचित्य साबित करने के लिए कोई भी विचारशील तर्क नहीं है। ऐसे में यह सोचना ज़रूरी है कि क्या यह हमारी ही परपीड़क-कामुक मनोदृष्टि नहीं दर्शाता?

पिछले वर्ष हम सभी कैंपस के इतिहास में घटित सबसे दुर्भाग्यपूर्ण घटनाओं में से एक के गवाह थे, जहाँ 22 छात्रों को रैगिंग के आरोपों के आधार पर निलंबित कर दिया गया। हमें यह आशा थी कि कम से कम इस कारण छात्र समुदाय में मौजूदा प्रथाओं को लेकर आत्मनिरीक्षण की एक लहर बड़े पैमाने पर उठेगी – लेकिन “इस साल बच्चे कुछ ज़्यादा ही संवेदनशील हैं” जैसी टिप्पणियों और शिकायतकर्ताओं के आलोचन लगातार सुनने के बाद यह असम्भाव्य ही लगता है कि कोई बदलाव आएगा।

यदि किसी और के व्यवहार को लेकर आपके विचार और धारणाएँ दूसरों के सुख-चैन के लिए परेशानी बन जाये तब यह सवाल स्वयं से पूछना लाज़िमी है – क्या यह सही है?

हमने अपने ‘कल्चर’ को बहुत समय तक अपने चाल-चलन और निर्णयों का आधार बनने दिया- जबकि यह साफ़ है कि इसका उल्टा होना चाहिए।

हम यह तहे दिल से उम्मीद करते हैं कि पाठक पूर्णतया पिछले सालों के अपने अनुभवों को ही फ्रेशर्स से अपने व्यवहार का आधार नहीं बनाएंगे और एक जागरूक व्यक्ति की तरह व्यवहार करेंगे (जो यह जानता है कि वह जो करता है क्यों करता है)।           

अस्वीकरण: ये आर्टिकल लेखकों के व्यक्तिगत विचार हैं, इन्हे किसी अन्य व्यक्ति या संस्था से न जोड़ें।

हम किसी भी तरह की आलोचना का स्वागत करते हैं, परन्तु पाठक से ये आशा है कि वे व्यक्तिगत टिप्पणी से परहेज़ करेंगे।

Written by Mohd Abbas Zaidi with inputs from Nilotpal Pathak. Hindi translation by Nilotpal Pathak and proofreading by Anurag Dwivedi

Edited by Samarth Bansal (English) and Akash Bhardwaj (Hindi)